नात: जहां भी हो वहीं से दो सदा सरकार सुनते हैं

जहां भी हो वहीं से दो सदा सरकार सुनते हैंसरे आइना सुनते हैं पसे दीवार सुनते हैं मेरी हर सांस उनकी आहटों के साथ चलती हैमेरे दिल की धड़कनों की भी वह रफ़्तार सुनते हैं गुनाहगारों दरूदे वालिहाना भेज कर देखोवह अपने उम्मती का नग़म-ए-किरदार सुनते हैं मैं सदक़े जाऊं उनकी रहमतल्लिला़लमीनी केपुकारो चाहे जितनी बार वह हर बार सुनते हैं मुज़फ्फर जब किसी महफ़िल में उनकी नात पढ़ता हैमेरा ईमान है वह भी मेरे अशआ़र सुनते हैं

Read More