रहमते आलम की धार्मिक सहिष्णुता

लेखक: ज़फर कबीर नगरीछिबरा, धर्मसिंहवा बाजार, संत कबीर नगर, उ.प्र विचारों के मतभेदों के बावजूद दूसरों के प्रति शीतलता दिखाने, उनकी धार्मिक मान्यताओं और मूल्यों का सम्मान करने, अपमानजनक तरीके से व्यवहार न करने या उनकी भावनाओं को ठेस न पहुंचाना धार्मिक सहिष्णुता है, इसी प्रकार दूसरे धर्म के लोगों के साथ उच्च स्तरीय मानवीय व्यवहार भी धार्मिक सहिष्णुता में शामिल है, इस्लाम एक ऐसा धर्म है जो प्रत्येक मानवता को मात्र एक अल्लाह से सीधा जोड़ता और उन सब को एक माता पिता की संतान और भाई भाई होने…

Read More