पर्दा और बदनज़री

आज जहां मुआशरे में हज़ारहा बुराइयां फैली हुई है उनमें एक बहुत बड़ी बुराई ये भी है की मर्द का एक ना महरम औरत को देखना और एक औरत का ना महरम मर्द के लिए सजना सवरना और बे पर्दगी से घूमना,लोग इसे फैशन और मॉडर्न समाज का हिस्सा मानते हैं मगर अल्लाह के यहां ये कुसूर छोटा नहीं बल्कि बहुत बड़ा है,मौला तआला क़ुर्आन में इरशाद फरमाता है कि मुसलमान मर्दों को हुक्म दो कि अपनी निगाहें कुछ नीची रखें और अपनी शर्मगाहों की हिफाज़त करें ये उनके लिए…

Read More