सबसे लमबी मस्ती

लेखक: मुशताक अहमद बरकाती खिलजी अनवारी अल मोईन वेल्फेयर सोसायटी,पोकरण7742082056 दौलत मन्दी की मस्ती से खुदा की पनाह मांगो यह एक ऐसी लमबी मसती है जिस से बहुत देर बाद होश आता है । आज का इंसान दौलत के नशे में इतना मद होश हो चुका है उसे बस दौलत के अलावा कोई चीज़ पयारी नहीं लगती,उसी मदहोशी की वजह से वोह गरीबों फकीरों को हकीर व कमज़ोर समझता है उसी दौलत की वजह से वोह तकबबुर (गुरूर)में मुबतला हो जा ता है, और अपनों को भुल जाता है ,…

Read More