शबे बराअत आज: होगी इबादत, तिलावत व जि़यारत

गोरखपुर। शबे बराअत पर्व रविवार को अकीदत व एहतराम के साथ मनाया जाएगा। तैयारियां पूरी हो चुकी है। इस्लामी माह शाबान की 15वीं तारीख की रात को शबे बराअत के नाम से जाना जाता है। शबे बराअत का अर्थ होता है निज़ात या छुटकारे की रात। शबे बराअत में बंदों पर अल्लाह की खास रहमतें उतरती है़। मुसलमान इस रात शहर की छोटी-बड़ी तमाम मस्जिदों व घरों में इबादत व क़ुरआन-ए-पाक की तिलावत कर अल्लाह से दुआ मांगेंगे। वहीं कब्रिस्तानों में जाकर पूर्वजों की कब्रों पर फातिहा पढ़कर उनकी बख्शिश…

Read More