गोरखपुर 

रमज़ान अज़मत व बरकत वाला महीना, खूब करें इबादत، मौलवी चक बड़गो में महिलाओं का जलसा

गोरखपुर। माह-ए-रमज़ान के मद्देनज़र बुधवार को नई कॉलोनी सफेदी बगिया मौलवी चक बड़गो में महिलाओं का जलसा हुआ। क़ुरआन-ए-पाक की तिलावत काशिफा बानो ने की। नात-ए-पाक नौशीन फातिमा व इलमा नूर ने पेश की। मुख्य वक्ता मदरसा क़ादरिया तजवीदुल क़ुरआन निस्वां अलहदादपुर की महजबीन सुल्तानी ने कहा कि अल्लाह का बहुत बड़ा एहसान कि उसने हमें माह-ए-रमजाऩ जैसी अज़ीमुश्शान नेमत से सरफ़राज़ फ़रमाया। रमज़ान में हर नेकी का सवाब 70 गुना या इससे भी ज़्यादा है। नफिल का सवाब फ़र्ज़ के बराबर और फ़र्ज़ का सवाब 70 गुना कर दिया…

Read More
गोरखपुर 

शबे बराअत आज: होगी इबादत, तिलावत व जि़यारत

गोरखपुर। शबे बराअत पर्व रविवार को अकीदत व एहतराम के साथ मनाया जाएगा। तैयारियां पूरी हो चुकी है। इस्लामी माह शाबान की 15वीं तारीख की रात को शबे बराअत के नाम से जाना जाता है। शबे बराअत का अर्थ होता है निज़ात या छुटकारे की रात। शबे बराअत में बंदों पर अल्लाह की खास रहमतें उतरती है़। मुसलमान इस रात शहर की छोटी-बड़ी तमाम मस्जिदों व घरों में इबादत व क़ुरआन-ए-पाक की तिलावत कर अल्लाह से दुआ मांगेंगे। वहीं कब्रिस्तानों में जाकर पूर्वजों की कब्रों पर फातिहा पढ़कर उनकी बख्शिश…

Read More

औरतों की महफिल में शबे बराअत की इबादत पर हुई रहनुमाई

गोरखपुर। शबे बराअत के मुबारक मौके पर मदरसा क़ादरिया तजवीदुल कुरआन निस्वां इमामबाड़ा अलहदादपुर में शनिवार को औरतों की महफिल सजी। कुरआन ख्वानी व फातिहा ख्वानी की गई। उम्मुल मोमिनीन हज़रत सैयदा उम्मे हबीबा रज़ियल्लाहु अन्हा को शिद्दत से याद किया गया। आलिमा नौशीन फातिमा ने कहा कि जिनकी फर्ज नमाज़ें छूटी हों वह शबे बराअत में नफिल नमाज़ों की जगह फर्ज कज़ा नमाज़ें पढ़ें। शबे बराअत की रात में नमाज़ पढ़ी जाए और दिन में रोजा रखा जाए। आलिमा महजबीन सुल्तानी ने कहा कि हज़रत आयशा रज़ियल्लाहु अन्हा फरमाती…

Read More